दाखिलखारिज में 91.03 प्रतिशत एवं परिमार्जन में 97.07 प्रतिशत आवेदनों को निष्पादित किया गया है

पटना. समाहर्तासहजिला पदाधिकारी, पटना डॉ. चन्द्रशेखर सिंह द्वारा आज राजस्व मामलों की समीक्षा की गई। उन्होंने ईम्यूटेशन, परिमार्जन, भूअर्जन, भूमि विवाद निराकरण, अतिक्रमण हटाने, नापीवाद, सीमांकन सहित विभिन्न मामलों में अद्यतन प्रगति का जायजा लिया।

भूमि सुधार उप समाहर्ताओं एवं अंचल अधिकारियों को संबोधित करते हुए जिलाधिकारी ने कहा कि राजस्व प्रशासन कोर कार्य है। आप सभी को इसी भावना से काम करना चाहिए। फिर भी ऐसा संज्ञान में आता है कि आम लोगों को काफी असुविधा हो रही है। लोगों को काफी शिकायतें हैं। यह अच्छी बात नहीं है। सरकार द्वारा निर्धारित मानकों के अनुपालन में शिथिलता के विरूद्ध जिला प्रशासन की शून्य सहिष्णुता (जीरो टॉलरेंस) है। उन्होंने कहा कि आज की तिथि में दाखिलखारिज के लंबित मामलों की संख्या 78,885 है जिसमें 30,135 आवेदन 21 दिन से अधिक तथा 39,182 आवेदन 63 दिनों से अधिक समय से लंबित है। जिलाधिकारी ने कहा कि पिछले दिनों समीक्षा में पाया गया था कि लगभग 150 से अधिक मामले अतिक्रमणवाद संधारित करने के लिए विभिन्न अंचलों में लंबित है। यह अच्छी स्थिति नहीं है। उन्होंने अधिकारियों को चेतावनी देते हुए कहा कि दाखिलखारिज एवं परिमार्जन के आवेदनों का निर्धारित समयसीमा के अंदर निष्पादन नहीं करने, नापीवाद एवं अतिक्रमणवाद का विधिवत संचालन नहीं करने पर दोषी अधिकारियों पर जिम्मेदारी निर्धारित करते हुए उनके विरूद्ध अनुशासनात्मक एवं विभागीय कार्रवाई प्रारंभ की जाएगी। जिलाधिकारी द्वारा सभी भूमि सुधार उप समाहर्ताओं को निदेश दिया गया कि दाखिलखारिज के अपील मामलों एवं बिहार भूमि विवाद निराकरण अधिनियम (डीएलडीआरए) के तहत मामलों का समयसीमा के अंदर विधिवत निष्पादन सुनिश्चित करें। साथ ही अपनेअपने क्षेत्रांतर्गत सभी अंचलों का निरीक्षण करें एवं राजस्व कार्यों का अनुश्रवण कर सरकार के निदेशों का अक्षरशः अनुपालन सुनिश्चित कराएँ।

डीएम डॉ. सिंह ने कहा कि अधिकारियों को अपनेअपने कार्यों में सुधार लाने के लिए 10 दिन का समय दिया जा रहा है। अगर इसमें सुधार नहीं आया तो दोषी अधिकारियों के विरूद्ध सख्त कार्रवाई की जाएगी। राजस्व संबंधी मामलों की साप्ताहिक समीक्षा की जाएगी। जिलाधिकारी ने कहा कि जिलास्तर से टीम बनाकर हर एक अंचल का निरीक्षण कराया जाएगा। लंबित सबसे पुराने मामलों की समीक्षा की जाएगी। यदि कोई अनियमितता उजागर होती है तो राजस्व कर्मचारी एवं अंचलाधिकारी के विरूद्ध कार्रवाई की जाएगी। डीएम डॉ. सिंह ने कहा कि वे भूमि सुधार उप समाहर्ता के न्यायालय कार्यों की समीक्षा करेंगे। जिलाधिकारी द्वारा अपर समाहर्ता को राजस्व मामलों का नियमित अनुश्रवण करने का निदेश दिया गया।

डीएम डॉ. सिंह ने अंचल अधिकारियों को 90 दिन से अधिक समय से अतिक्रमण के लंबित मामलों को प्राथमिकता के आधार पर निष्पादित करने का निदेश दिया।

आज की बैठक में डीएम डॉ. सिंह ने खारिजदाखिल एवं परिमार्जन में आवेदनों के निष्पादन की स्थिति, मामलों के लंबित रहने के कारण एवं अन्य मानकों पर गहन समीक्षा की।

समीक्षा में पाया गया कि दिनांक 08 जुलाई, 2024 तक दाखिलखारिज के 8,79,907 प्राप्त आवेदनों में से 8,01,022 आवेदनों को निष्पादित किया गया है। यह प्राप्त आवेदनों का 91.03 प्रतिशत है। अद्यतन स्थिति की समीक्षा करते हुए डीएम डॉ. सिंह ने पाया कि दिनांक 20 जून, 2024 से 08 जुलाई, 2024 तक पूरे जिले में दाखिलखारिज के प्राप्त एवं निष्पादित वादों की संख्या क्रमशः 7,209 तथा 9,031 है। डीएम डॉ. सिंह ने सभी आवेदनों का ससमय एवं गुणवत्तापूर्ण निष्पादन करने का आदेश दिया। डीएम डॉ. सिंह ने अंचलाधिकारियों को निदेश दिया कि प्राप्त आवेदनों की तुलना में नियमानुसार निष्पादन की गति तेज रखें ताकि बैकलॉग को तुरत खत्म किया जा सके। उन्होंने विशेष प्रयास कर समयसीमा पार लंबित मामलों को शीघ्र निष्पादित करने का निर्देश दिया।

अद्यतन प्रगति की समीक्षा में यह पाया गया कि दिनांक 20 जून, 2024 से 08 जुलाई, 2024 तक दाखिलखारिज के मामले में घोसवरी, बिहटा, फतुहा, बिक्रम एवं मोकामा ने अच्छी प्रगति की है जबकि धनरूआ, मसौढ़ी, दानापुर, नौबतपुर एवं पंडारक का खराब प्रदर्शन रहा है।

जिलाधिकारी ने कहा कि दाखिलखारिज के आवेदनों को अस्वीकृत करने में विशेष सावधानी बरतें तथा सरकार द्वारा निर्धारित दिशानिदेशों का अक्षरशः अनुपालन सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि जिला में यह दर 35.46 प्रतिशत है। इससे अधिक जिनजिन अंचलों में दाखिलखारिज के मामलों को अस्वीकृत किया गया है वहाँ भूमि सुधार उप समाहर्ता समीक्षा कर प्रतिवेदन देंगे।

जिले में 63 दिनों से अधिक लंबित दाखिलखारिज के मामलों की समीक्षा की गई। इस मानक पर अच्छा प्रदर्शन करने वाले अंचलों में घोसवरी में 113 मामले, बेलछी में 114 मामले, दनियावॉ में 137 मामले, मोकामा में 233 मामले तथा खुशरूपुर में 325 मामले लंबित हैं। खराब प्रदर्शन करने वाले अंचलों में पटना सदर में  4,598 मामले, बिहटा में 4,370 मामले, सम्पतचक में 3,855 मामले, फुलवारी शरीफ में 3,837 मामले एवं दानापुर में 3,009 मामले लंबित हैं। डीएम डॉ. सिंह ने इसपर अप्रसन्नता व्यक्त करते हुए दाखिलखारिज में खराब प्रदर्शन करने वाले अंचलों के अंचलाधिकारियों को स्थिति में तुरत सुधार लाने का निदेश दिया।

डीएम डॉ. सिंह ने कहा कि भूमि सुधार एवं राजस्व विभाग के प्रावधानों के अनुसार निर्धारित समय सीमा के अंदर दाखिल खारिज नहीं करने वाले दोषी अधिकारियों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने अपर समाहर्ता को निदेश दिया कि लापरवाही बरतने वाले अधिकारियों के विरूद्ध कार्रवाई हेतु प्रस्ताव उपस्थापित करें।

समीक्षा में पाया गया कि दिनांक 08 जुलाई, 2024 तक परिमार्जन के 2,99,757 आवेदनों (97.07 प्रतिशत) को निष्पादित किया गया। डीएम डॉ. सिंह  ने  शेष सभी आवेदनों का ससमय एवं गुणवत्तापूर्ण निष्पादन करने का आदेश दिया।

दिनांक 08 जुलाई, 2024 तक परिमार्जन हेतु प्राप्त आवेदनों की निष्पादन की समीक्षा में पाया गया कि पटना सदर (91.17 प्रतिशत निष्पादन), सम्पतचक (93.44 प्रतिशत निष्पादन), बाढ़ (95.04 प्रतिशत निष्पादन), मोकामा (96.27 प्रतिशत निष्पादन) एवं दानापुर (96.30 प्रतिशत निष्पादन) खराब प्रदर्शन करने वाले अंचलों में शामिल है। इस मामले में फुलवारी शरीफ (100 प्रतिशत निष्पादन), पंडारक (100 प्रतिशत निष्पादन), खुशरुपुर (100 प्रतिशत निष्पादन), दुल्हिनबाजार (100 प्रतिशत निष्पादन) तथा बख्तियारपुर (100 प्रतिशत निष्पादन) ने अच्छा प्रदर्शन किया है । अद्यतन प्रगति की समीक्षा में यह पाया गया कि दिनांक 20 जून, 2024 से दिनांक 08 जुलाई, 2024 तक परिमार्जन के आवेदनों के निष्पादन में खराब प्रदर्शन करने वाले अंचलों में बख्तियारपुर, बेलछी, दनियावॉ, दुल्हिनबाजार एवं फतुहा अंचल शामिल है जबकि सम्पतचक, बिहटा, मोकामा, पटना सदर एवं पुनपुन ने अच्छा प्रदर्शन किया है।

डीएम डॉ सिंह ने कहा कि विभिन्न माध्यमों यथा समाचार पत्रों, इलेक्ट्रॉनिक चैनल्स, लोक शिकायत एवं जनता से साक्षात्कार के क्रम में यह पता चलता है कि दाखिल खारिज आवेदनों का ससमय निष्पादन नहीं किया जाता है एवं बिना उचित कारण के आवेदनों को अस्वीकृत कर दिया जाता है। उन्होंने कहा कि यह बहुत आपत्तिजनक है। बिहार लोक सेवाओं का अधिकार अधिनियम, 2011 एवं बिहार भूमि दाखिल खारिज अधिनियम, 2011 में दाखिल खारिज आवेदनों के निष्पादन की अवधि एवं विधि का स्पष्ट उल्लेख किया गया है। डीएम डॉ सिंह ने कहा कि दाखिल खारिज आवेदनों को प्रत्येक स्तर पर यथा दाखिल खारिज आवेदनों के निष्पादन की कार्रवाई करने वाले प्रत्येक कर्मी/पदाधिकारी द्वारा तय अवधि एवं विधि द्वारा निष्पादित किया जाएगा तथा बिना स्पष्ट/उचित कारण के आवेदनों को अस्वीकृत नहीं किया जाएगा। सभी अंचल अधिकारी एवं राजस्व अधिकारी यह सुनिश्चित करें कि दाखिल खारिज आवेदनों को निष्पादित करने के क्रम में फीफो (फर्स्ट इन, फर्स्ट आउट) का अनुपालन करें। साथ ही आवेदनों को निष्पादित करने के क्रम में किसी कर्मी/पदाधिकारी द्वारा बिना स्पष्ट कारण के यदि अस्वीकृत किया जाता है तथा तय समयसीमा से अधिक समय लिया जाता है तो ऐसी स्थिति में अविलंब इस संबंध में जिम्मेदार कर्मी एवं पदाधिकारी को चिन्हित करते हुए उनसे स्पष्टीकरण प्राप्त कर उपस्थापित करें, दोषी पाए जाने की स्थिति में आरोपपत्र गठित कर विभाग को उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें।

डॉ. सिंह ने ऑनलाइन दाखिल खारिज की प्रक्रिया को निष्पादित करने में राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग द्वारा निर्धारित ऑडइवेन प्रणाली का दृढ़ता से अनुपालन सुनिश्चित करने का निर्देश दिया।

डीएम डॉ. सिंह ने कहा कि खारिजदाखिल एवं परिमार्जन में शिथिलता, लापरवाही या अनियमितता  बर्दाश्त नहीं की जाएगी। विभिन्न मानकों पर खराब प्रदर्शन करने वाले अंचलाधिकारी तुरंत अपेक्षित सुधार ले आएँ। उन्होंने कहा कि अच्छे प्रदर्शन करने वाले अधिकारियों को प्रशस्तिपत्र दिया जाएगा।

डीएम डॉ. सिंह ने कहा कि बिहार लोक सेवा का अधिकार अधिनियम, 2011 के तहत समयपार (एक्सपायर्ड) आवेदनों की संख्या हर हाल में शून्य रहनी चाहिए।

डीएम डॉ. सिंह ने भूमि स्वामित्व प्रमाण पत्र, नापीवाद, सार्वजनिक भूमि पर से अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई, भूअर्जन, भूमि विवाद निराकरण के लंबित मामलों का त्वरित गति से निष्पादन करने का निर्देश दिया।

डीएम डॉ. सिंह ने कहा कि सभी अंचलाधिकारी राजस्व कर्मचारीवार नियमित समीक्षा करें। साथ ही सभी भूमिसुधार उप समाहर्ता अंचलाधिकारियों के कार्यों का लगातार अनुश्रवण करें।

आज की बैठक से अंचल अधिकारी, धनरूआ बिना किसी पूर्व सूचना के अनुपस्थित थे। जिलाधिकारी ने अपर समाहर्ता को उनसे स्पष्टीकरण करने का निदेश दिया। साथ ही उन्होंने विभिन्न मानकों पर खराब प्रदर्शन करने वाले बॉटम-5 अंचलों के अंचलाधिकारियों से भी स्पष्टीकरण करने का निदेश दिया।

डीएम डॉ. सिंह ने राजस्वकार्यों में संलग्न अधिकारियों को प्रतिबद्धता एवं तत्परता से कार्य करने का निर्देश दिया।

आज के इस बैठक में समाहर्ता के साथ अपर समाहर्ता, सभी भूमि सुधार उप समाहर्ता, सभी अंचलों के अंचलाधिकारी एवं अन्य भी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *